कहानिया अद्भुत रहस्यो कि। Best 4 Rahasyamayi kahaniya 2022

नमस्कार दोस्तो , स्वागत है आप्का नई Rahasyamayi kahaniya मे । आज ह्म रहस्यमयी कहानीया हिन्दी बतानॆ ज रहे है | अगर आपको एसी हि और पोस्त देखनी है , तो हमारी वेबसाइत् की अन्य पोस्त जरुर देखिएगा आपको निस्चित हि पसन्द आयेगा।

Rahasya kahani hindi, Rahasyamayi kahaniya
Rahasyamayi kahaniya in hindi

इस  Rahasyamayi kahaniya hindi  लेख में चित्रित कहानी, सभी नाम, पात्र और घटनाएं काल्पनिक (may be) हैं। वास्तविक व्यक्तियों (जीवित या मृत), स्थानों, इमारतों और उत्पादों के साथ कोई पहचान का इरादा नहीं है या अनुमान लगाया जाना चाहिए। 

Top 4 Rahasyamayi kahaniya in Hindi

डूबे हुये जहाज का रहस्य

Rahasyamayi kahani hindi -१।

छिपा हुआ खजाना, रहस्यमय कहानियां और गुम हो चुके शहर जैसी दास्तानें सभी को बहुत रोमांचक लगती हैं. रहस्य से परिपूर्ण अस्पष्ट कहानियों के लिए हमेशा ही उत्सुक और जिज्ञासु रहना मानव मस्तिष्क की सबसे बड़ी विशेषता होती है. यही वजह है कि भले ही फिल्मों में या फिर अन्य किसी माध्यम से हमें ऐसी कहानियों को सुनने या देखने का अवसर मिले तो हम कभी भी उसे गंवाना नहीं चाहते।

अगर डेली मेल में प्रकाशित एक रिपोर्ट पर गौर करें तो छिपे हुए खजाने की तलाश करने वाले एक व्यक्ति ने ब्रिटेन के डूबे एक व्यापारी जहाज के अवशेष ढूंढ निकालने का दावा किया है. यह जहाज कोई मामूली जहाज नही है क्योंकि इसमें तीन अरब डॉलर की प्लेटिनम की छड़ें भी हैं।

समाचार पत्र की मानें तो इस जहाज को द्वितीय विश्व युद्ध के समय जर्मनी द्वारा डुबोया गया था और यह जहाज पानी में छिपे खजानों की अब तक की सबसे बड़ी खोज हो सकती है. अमेरिका के गोरहम स्थित सब सी रिसर्च से जुड़े खोजी ग्रेग ब्रुक्स ने इस सप्ताह इस जहाज के बारे में घोषणा की. ब्रुक्स का कहना है कि इस जहाज को वर्ष 1942 में डुबो दिया गया था और तब से लेकर अब तक यह जहाज पानी के अंदर ही है।

वैसे तो बहुत से वैज्ञानिक इस जहाज को खोजने की कोशिश में लगे थे लेकिन उनके दल ने इस जहाज की पहचान की है. यह जहाज मैसाचुसेट्स के केप काड से 50 मील दूर समुद्र में 700 फीट नीचे है. हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ब्रिटेन के एक वकील ने ब्रुक्स के इस दावे को निराधार बताया है कि इस जहाज में प्लेटिनम की छड़ें जैसी कुछ हैं. संबंधित वकील को ब्रुक्स के इन दावों पर गहरा संदेह है।

इतना ही नहीं यह बात भी स्पष्ट की गई है कि अगर वास्तव में यह जहाज कीमती धातु को सहेजे हुए हैं तो उसके मालिकाना अधिकार को लेकर कई देशों के बीच विवाद खड़ा हो सकता है. निश्चित रूप से यह एक अंतरराष्ट्रीय विवाद को बढ़ावा दे सकता है. पानी के भीतर छिपे जहाज के पीछे कितनी सच्चाई है इसका पता लगाना अभी बहुत मुश्किल है।

लेकिन फिर भी अगर इतना कीमती जहाज पानी के भीतर है और वो भी द्वितीय विश्व युद्ध के समय से तो यह एक बड़ी रोमांचक खबर है.

कुटुमसर गुफाएं का रहस्य

Rahasyamayi kahaniya
Rahasyamayi kahaniya


Rahasyamayi kahani hindi -२। हाल ही में मुझे जगदलपुर( बस्तर में स्थित) से 40 किलोमीटर दूर दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्थित विश्वप्रसिद्ध कुटुमसर गुफाएं देखने का अनुभव मिला। । जमीन से करीब 72 फुट नीचे ये गुफाएं करीब 330 मीटर तक फैली हुई हैं। इसके अनेक हिस्सों में पानी रहता है और कुछ ही कदम दूर तक सूरज की रोशनी नहीं पहुंचती, जिसके कारण यहां आने वाला व्यक्ति पूरी तरह दृष्टिहीन हो जाता है।

इसमें मिलने वाली अंधी मछलियों के कारण ये गुफाएं अद्भुत हैं। चूंकि लाखों वर्षों से पूरी तरह अंधेरे में रहने के कारण इन मछलियों की आंखों का इस्तेमाल खत्म हो गया है, इसलिए उनकी आंखों पर एक पतली सी झिल्ली चढ़ चुकी है और वे पूरी तरह अंधी हो गई हैं।

इन गुफाओं को पहली बार बिलासपुर के प्रोफेसर ने 1958 में ढूंढ़ निकाला था, जब न तो फोटोग्राफी की सुविधाएं इतनी उन्नत थीं और न ही अन्य वैज्ञानिक उपकरण पर्याप्त संवेदनशील थे। घने जंगलों में स्थित इन गुफाओं में वे स्थानीय लोगों की मदद से और सामान्य टॉर्च, चाकू, कुछ फुट लंबी रस्सी और पानी लेकर दाखिल हुए थे। जबलपुर के एक कॉलेज में कार्यरत प्रोफेसर ने यह अभियान गर्मी की छुट्टियों में किया था।

फ्रांस, स्पेन और अमेरिका में इसी तरह की गुफाएं मिलने के बाद भूगर्भशास्त्रियों और वैज्ञानिकों में कुटुमसर गुफाओं के प्रति उत्सुकता बढ़ी थी। फ्रांस और स्पेन की गुफाओं में रंगीन भित्तिचित्र भी मिले हैं। मैक्सिकों की ऐसी गुफाएं 1000 मीटर लंबी हैं, जबकि अमेरिकी गुफाएं तो 30 मील तक फैली बताई जाती हैं। पहली बार इन गुफाओं का उल्लेख छत्तीसगढ़ फ्यूडेटरी स्टेट गजट में 1909 में मिलता है।

1933 में बस्तर और ओडिशा के भौगोलिक नक्शे में इन गुफाओं को स्थान मिला था। उनके अध्ययन के बाद शंकर तिवारी ने काफी कठिनाईयों के बाद इन गुफाओं के बारे में जानकारी पाई थी। उन्होंने अपने अनुभव और शोध प्रक्रिया के बारे में विस्तार से लिखा भी है। भारत में अंधी मछलियों को ढूंढ़ने का श्रेय शंकर तिवारी को ही जाता है।

इसके अलावा उन्होंने एक और नई जीव प्रजाति को इन्हीं गुफाओं में पाया था। यह दिखता तो मछली जैसा है, परंतु उसकी 15-25 सेंटीमीटर लंबी मूंछें होती हैं, जो उसका एंटीना है। इन्हीं की मदद से वह टटोलकर अपने लक्ष्य तक पहुंचता है। इस जंतु का नाम प्रोफेसर तिवारी के नाम पर रखकर उनका योग्य सम्मान किया गया- कैम्पिओला शंकराई। गुफाओं के भीतर प्रकृति का विलक्षण और रहस्यमय रूप दिखता है।

यहां पूरी तरह अंधेरा है, पानी में भीगे हुए पत्थर हैं, जमा हुआ या बहता हुआ जल है और एक विशिष्ट तरह के वातावरण ने गुफा के भीतर अनेक तरह के आकार और चेहरे प्रदान किए हैं। कैल्शियम, स्टेलेक्टाईट, स्टेलेग्माईट आदि के पत्थरों ने अंधेरे में चमत्कार पैदा किए हैं, प्रकाश पड़ते ही वे उजागर होते हैं। गुफाएं अनेक स्थानों पर अत्यंत संकरी, उबड़-खाबड़, उमसभरी तथा ऑक्सीजन की कमी वाली हैं।

सीमित बैटरी पर चलने वाले टॉर्च की कृपा पर आप निर्भर रहते हैं। अगर गहन अंधकार में आप खो गए, तो अपने आप वापस आना लगभग असंभव है।मित्रो, फिर भी इसे अवश्य देखना चाहिए! चूंकि इसका प्रवेश और वापसी का एक ही मुंह है, गुफा की लंबाई दुगुनी हो जाती है।

ये गुफाएं दमघोंटू हैं, इसलिए बीपी, मधुमेह और हृदय रोग से पीडि़त लोगों को यहां जाने की सलाह नहीं दी जाती। प्रोफ़ेसर को सलाम, जिन्होंने कुटुमसर गुफाओं के रहस्य को उजागर किया; उनकी जिज्ञासा और जज्बें को सलाम!

समुद्र की रहस्यमयी कहानीया

Rahasyamayi kahani hindi -३। समुद्र की गहराइयां का रहस्य आज भी बरकरार है. समंदर के गर्भ में अद्भुत जीव-जंतु, दुर्लम पौधे और हैरान कर देने वाले बैक्टीरिया मौजूद है. समुद्र की गहराइयां इक्कीसवीं सदी में भी रहस्य बनी हुई हैं, जबकि धरती का करीब 70 प्रतिशत हिस्सा समुद्र से घिरा है।

इसकी औसत गहराई किलोमीटर में आंकी जाती है. समुद्र को जीवों के सबसे बड़े बसेरे के रूप में भी जाना जाता है लेकिन दिक्कत यह है कि इनका बसेरा भी सुरक्षित नहीं रह गया है. समुद्र की गहराइयां बेहद ठंडी, अंधेरी होती हैं और कभी-कभी तो ज्यादा दबाव के कारण यहां ऑक्सीजन भी काफी कम हो जाता है।

दबाव की बात आयी है, तो तुम्हें बता दें कि धरती पर जितना दबाव महसूस होता है, समुद्र की गहराइयों में यह 1000 गुना ज्यादा होता है. इतना ज्यादा दबाव कि बायोकैमेस्ट्री भी यहां फेल हो जाए. इतनी मुश्किलों के बावजूद सचाई यह है कि समुद्र की तलहटी में रहने की एक प्रतिशत से भी कम जगहों का अभी तक पता चला है।

जानते हैं- समुद्र की गहराई के इस एक प्रतिशत में रहने वाले जीवों और वनस्पतियों की किस्मों के बारे में- समुद्री दुनियां के अद्भुत जीव गहरे समुद्र में अजीब रहन-सहन वाली दुनिया में शार्क, डरावनी शक्लों वाले ड्रैगन जैसी दिखने वाली मछलियां रहती हैं।

इनकी आंखें वहीं से लैंप की तरह दमकती हैं, चमकीली मछलियां, केएलाकैंथ नामक मछली, कमल जैसे दिखने वाले रेंगते फूल, ब्लड रेड समुद्र फेनी (स्विड), भयानक सूंडों वाले काले ऑक्टोपस, करीब एक मीटर चौड़ी जेलीफिश, रेंगने और कई भुजाओं वाले पौधे और जेलीफिश जिनके चमकीले चंगुल से बच पाना आसान नहीं, क्योंकि इन्हीं से ये मछली अपने शिकार को आकषिर्त भी करती है।

लेकिन, इन समुद्री गहराइयों में शायद सबसे ज्यादा नाटकबाज जीव है करीब 13 मीटर लंबा स्विड. इन्हें आर्किटय़ूथिस भी कहते हैं. हाल में पहले बार इन्हें जिंदा पकड़ने में कामयाबी मिली है. ये करीब 15 मीटर लंबा जीव है. लेकिन इसे कभी जीवित नहीं देखा गया।

गहरे समुद्र में इसका बराबरी करने वाले दो जीव हैं- स्पर्म व्हेल और अंटाकर्टिक स्लीपर शार्क. यहीं रहकर ये अपने लिए शिकार तलाशती हैं. समुद्र की बेहद गहराइयों में बैक्टीरिया यह जानकर ताज्जुब होगा कि समुद्र की बेहद गहराइयों में बैक्टीरिया, कीड़ों और दूसरे केकड़े-झींगे जैसे क्रस्टासियस पाये जाते हैं।

जैसे खेतों में कई तरह के कीड़े-मकोड़े और किस्म-किस्म के पौधे दिख जाते हैं, वैसे ही समुद्र की तलहटी में भी पाये जाते हैं लेकिन वहां जो दिखते हैं, धरती पर पाये जाने वाले से अलग होते हैं. समुद्र में पाये जाने वाले कीड़े-मकोड़े बर्फ खाते हैं. यह बर्फ ऊंचाई से यहां तक गिरकर आती है. समुद्र के ज्यादा गहरी तली में जीवन होने की कल्पना करना संभव नहीं है।

लेकिन 2003 में शोधकर्ताओं ने पाया कि कई अजीब किस्म के बैक्टीरिया 300 मीटर की गहराई में पाए जाने वाले चट्टानों में पाये गये. गहरे पानी में कोरल रीफ शोधकर्ताओं ने प्रशांत महासागर के सीफ्लोर पर यह रिसर्च किया था. उन्होंने अपनी रिसर्च में पाया कि लाखों साल पहले से वे इन चट्टानों में खाते-पीते पनपते रहे हैं।

गहरे में मौजूद मूंगा भित्ति (कोरल रीफ) से तो काफी चौंकाने वाले तथ्यों का पता चला. वहां करीब 6000 मीटर की गहराई में, जहां पानी का तापमान दो डिग्री सेल्सियस था, ये चट्टानों के आसपास पाये गये. इतना ही नहीं, ये बैक्टीरिया उष्णकटिबंधीय यानी ट्रॉपिकल क्षेत्रों और उथले पानी में भी मजे में रह रहे हैं।

आयरलैंड से न्यूजीलैंड तक ये धीरे-धीरे पनपते मिले हैं और इनका पता तब चला, जब तेल की खोज के दौरान खनिकों ने इन्हें यहां आहिस्ता-आहिस्ता पनपते पाया. लेकिन इन्हें उस समय ज्यादा नुकसान हुआ, जब मछुआरों के मछली पकड़ने के लिए इन इलाकों में बड़े-बड़े जाल डालना शुरू किया।

समुद्र में 2 मीटर लंबी बैक्टीरिया इन जाल से मूंगा भित्तियों को कितना नुकसान हुआ होगा. केवल 2002 में नाव्रे के नजदीक 100 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में ये भित्तियां देखी गयी थीं. लेकिन कीड़ों की बात करें तो 2 मीटर लंबी रिफ्शिया पचिटिला नामक बैक्टीरिया भी इन्हीं समुद्रों की बहुत गहराई में पायी जाती हैं।

इसी तरह समुद्र के भीतर 121 डिग्री सेल्सियस की गर्मी में भी कुछ बैक्टीरिया को जीवित पाया गया है. खास बात तो यह है कि समूची पृथ्वी पर पाये जाने वाले पर्वतीय श्रृंखलाओं में से एक है 70 हजार किलोमीटर लंबे समुद्र के भीतर का पर्वतनुमा क्षेत्र।

टॆरो कार्ड की कहानी


Rahasyamayi kahani hindi -४। टैरो पिछले दो दशकों में एक पुनरुत्थान का अनुभव किया है और हाल में अक्सर बाहर आ आधुनिक टैरो डेक ढाला के साथ हाल ही में विशेष रूप से लोकप्रिय हो गया है. मूल अमेरिकी और नारीवादी के लिए मिस्र और सेल्टिक से विषयों का प्रतिनिधित्व जिसमें से चुनने के डेक के दर्जनों, अब कर रहे हैं।

समय के साथ, टैरो कार्ड केवल एक बार और उनकी जटिल प्रतीकों के पीछे गहरे अर्थ की तलाश में लगे लोगों द्वारा पुनर्जीवित होने की लोकप्रिय ब्याज से गिरने, उनके उतार चढ़ाव पड़ा है. कहावत है, “सत्य बाहर हमेशा जाएगा.” अभी भी अस्तित्व में टैरो कार्ड का जल्द से जल्द पता “किताब” सत्रह रहते हैं जिनमें से 1840-42 से उन लोगों के हैं।

अभी भी अस्तित्व में पहले पूरे डेक मिलान के ड्यूक के लिए इतालवी बोनिफेसिओ Bembo द्वारा चित्रित किया गया था. कई सिद्धांतों को टैरो के मूल के बारे में मौजूद हैं. इतिहास के विभिन्न अवधियों के दौरान गुप्त अध्ययन गुप्त ज्ञान की ओर संस्कृति के रवैये के मौजूदा अधिकारियों के आधार पर सभी या गहरा रहस्य है, या तो स्वतंत्र रूप से उपलब्ध थे (शब्द “छिपा” का मतलब है)।

एक सिद्धांत यह है जिसका महिला लाइब्रेरियन Hypatia उसके ज्ञान और सीखने के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध था मिस्र में सिकन्दरिया के महान पुस्तकालय में प्राचीन दुनिया के ज्ञान के सभी युक्त (किताबें उन दिनों में किए गए थे कैसे था) स्क्रॉल वहाँ है कि अस्तित्व में है।

इन “किताबें” में से एक माना जाता है कि मिस्र के रहस्य स्कूलों से निकाली गई Thoth के दिग्गज बुक, के आधार पर किया गया था. टैरो कार्ड पर व्यंजनापूर्ण चित्र मेजर Arcana में व्यक्तिगत विकास में एक पाठ्यक्रम का प्रतिनिधित्व करते हैं जो इन गुप्त शिक्षाओं, शामिल करने के लिए कहा जाता है. गूढ़ उपदेशों लगने निर्दोष चित्रों में छिपे हुए थे।

जिप्सी यूरोप के लिए कार्ड किए गए और “जिप्सी” का एक भ्रष्ट रूप माना जाता है कहा जाता है “मिस्र.” “शैतान की तस्वीर पुस्तक” होने के लिए चर्च से माना जाता है, कार्ड जल्दी विधर्मी के रूप में कैथोलिक चर्च द्वारा निंदा की गई. बस उन्हें एक खतरनाक नाटक था के अधिकारी के लिए।

कार्ड यह सचमुच स्थापित चर्च हठधर्मिता के अलावा अन्य कुछ भी विश्वास करने के लिए अपने जीवन के लिए एक खतरा था जब चर्च के एक समय में, खतरनाक, या धर्म विरोधी माना जाता है कि प्राचीन ज्ञान के संरक्षण के लिए एक साधन थे कि इसमें कोई संदेह नहीं लगता है।

हम केवल अपने मूल पर अटकलें लगा सकते है, टैरो छवियों अभिन्न प्राचीन मान्यताओं, पौराणिक कथाओं, और इस तरह के यहूदी रहस्यवाद के रूप में धार्मिक सिस्टम से जुड़े हुए हैं. दूसरों को, विशेष रूप से पाइथागोरस, पत्र और नंबर अपने आप में असाधारण शक्तियों रखने दिव्य प्राणी हैं कि माना; ग्रीक नव पाइथागोरस स्कूल इन विचारों को पढ़ाया जाता है. कोई फर्क नहीं पड़ता टैरो की उत्पत्ति, यह अपने रूपांकनों मौलिक मानव मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक रहस्य को सीधे उल्लेख है कि स्पष्ट है।

एक से अधिक अध्ययनों से उन्हें और उनके उपयोग प्रथाओं, गहरी एक की समझ हो जाता है, और अधिक आंतरिक जीवन को वे गूंजते है, साथ ही बाहरी जीवन में घटनाओं के लिए. वे मुख्य रूप से प्रामाणिक स्वयं की खोज के लिए, ज्ञान के लिए इस्तेमाल किया जा के लिए होती हैं. नंबर कार्ड चौदहवीं सदी में पहली ज्ञात डेक के समय के आसपास, एक बाद की तारीख में जोड़ा गया है माना जाता है।

सतह और एक व्यक्ति के जीवन में एकीकृत बनने के लिए एक जागरूक, जानबूझकर रास्ते में इन छवियों के साथ संपर्क उनके छिपा समकक्षों की अनुमति देता है. ठीक से आयोजित एक रीडिंग एक कहानी है – कार्ड पर छवियों को पढ़ने आयोजित किया जाता है जिनके लिए व्यक्ति से भिड़ने के मुद्दों को स्पष्ट कर सकते हैं कि एक सार्थक पैटर्न में मिलकर एक हो जाना।

आशा करते है कि आपको यह पोस्ट Rahasyamayi kahaniya पसन्द आयी होगी , अगर हा तो अपने दोस्तो और परिवार के साथ जरुर शेयर करे।

If you like this post Rahasyamayi kahaniya then please ,share this post with your friends and family. Also if you like this content then you can bookmark this page for more content.

Must Read –

Leave a Comment

Your email address will not be published.